कुरआन क्या है ?

टाल-मटोल: कारण, प्रभाव और इलाज

टाल-मटोलएक बीमारी हमारी बहुमत के जीवन में ऐसी आ चुकी है जिसके कारण हमें बहुत सारा नुकसान उठाना पड़ता है जिसे हम टालमटोल टरखाने और देर करने की बीमारी कहते हैं, टाल मटोल चाहे जीवन के किसी भी क्षेत्र में हो निंदनीय और सख्त हानिकारक है। धार्मिक जीवन में हम देखें तो एक आदमी तौबा करने का वादा करने के बावजूद पाप पर पाप करता रहता है, वह यह कहते हुए नहीं थकता कि “तौबा कर लेंगे”, “जल्द ही इसे छोड़ देंगे”, “जल्द ही नमाज़ शुरू करेंगे”,” दुआ करें मेरे लिए “, और इस तरह टाल मटोल करता रहता है। आम जीवन में देखें तो एक आदमी आज के काम को कल पर डालता रहता है, “कल कर लेंगे”, “इन शा अल्लाह शुरू करेंगे”, “अभी समय बाकी है”, “देरी से कुछ नुकसान होने वाला नहीं”, ” करने का इरादा करता हूँ लेकिन भूल जाता हूँ “,” समझ में नहीं आता कि कहां से शुरू किया जाए। ” यहां तक कि समय निकल जाता है या टाल मटोल की वजह से काम भली-भांति नहीं हो पाता।

सवाल यह है कि आखिर ऐसा क्यों होता है? हम टालमटोल क्यों करते हैं? एक कारण कारण उस परिवार का प्रभाव है जिसमें एक इंसान प्रशिक्षण पाता है, माता पिता भाई बहन अगर टाल-मटोल में जीते हैं, तो जाहिर है कि उस घर में पलने वाला बच्चा भी उसी स्वभाव का होगा। कभी बच्चा बड़े के अंदर कोई खूबी देखता है और उसे नकल करने की कोशिश करता है लेकिन अभिभावक बच्चे को रोक देते हैं कि “तुम्हारी उम्र अभी कम है”, “इस उम्र में तुम्हें यह काम करने की जरूरत नहीं”, इस तरह धीरे धीरे बच्चे के अंदर टाल-मटोल की बीमारी पैदा होने लगती है।

उसी तरह सुस्त, आलसी और टाल-मटोल करने वालों की सोहबत अपनाना भी टाल-मटोल का आदी बनाता है, क्योंकि संगति का मनुष्य पर बहुत गहरा असर पड़ता है, इसी लिए इस्लाम हमें नेक संघत अपनाने की हिदायत करता है।

 इंसान के अंदर से संकल्प का अभाव, इरादा की कमजोरी और हिम्मत की पस्ती भी टाल-मटोल का कारण बनती है। जिसका इरादा पक्का होता है, और संकल्प जवान होता है वह किसी भी काम को टाल-मटोल किए बिना समय पर अंजाम देता है, आज का काम कल पर नहीं डालता, लेकिन पस्त हिम्मत  और काम चोर आदमी काम में टाल-मटोल करता रहता है, यहां तक कि कभी-कभी काम का उचित समय निकल जाता है। शायद इसी लिए हम देखते हैं कि इस्लाम हमें शिक्षा देता है कि सुस्ती और आलस्य से अल्लाह से शरण मांगें। अल्लाह के रसूल  हमेशा सुबह और शाम यह दुआ करते थे:

اللهم إني أعوذ بك من الهم والحزن، وأعوذ بك من العجز والكسل، وأعوذ بك من الجبن والبخل، وأعوذ بك من غلبة الدين وقهر الرجال

मेरे अल्लाह! शरण दे मुझे हर मुसीबत से, हर गम से, असमर्थ होने से, आलस्य से, कायरता से कंजूसी से, ऋण के बोझ से और लोगों के दबाव से।

धार्मिक मामलों में एक आदमी जब अल्लाह की पकड़ से सुरक्षित हो जाता है तो बुराई प्रतिबद्ध रहता है और कर्तव्यों तक में कोताही और टाल-मटोल करता रहता है। हालांकि एक मोमिन हमेशा चौकन्ना रहता है कि कहीं हमारी कोताही की वजह से अल्लाह का अज़ाब न उतर जाए। मौत को भूल जाना। आख़िरत की चिंता से बेपरवाह और दुनिया कमाने में पूरे तौर पर लग जाना भी टाल-मटोल का कारण बनता है। जरा कल्पना कीजिए कि दो आदमी है जिसमें एक का दोस्त कल आने वाला है और दूसरे का दोस्त एक साल के बाद आने वाला है, ज़ाहिर है कि जिस आदमी का दोस्त कल आने वाला है वह अपने दोस्त के स्वागत की पूरी तैयारी करेगा, जबकि दूसरा आदमी जिसका दोस्त एक साल के बाद आने वाला है वह अपने दोस्त के इंतजार में नहीं रहेगा और तैयारी नहीं होगा। यही हाल मानव जीवन का है जो समझता है कि हमें दीर्घायु मिलने वाली है वह टाल-मटोल करता है और जो समझता है कि पता नहीं मौत का दूत कब आ जाए और हमारी आत्मा कब्ज करके चला जाए, वह अपनी आख़िरत की तैयारी में लगा रहता है और अपने स्वयं के प्रति हर वक़्त चौकन्ना रहता है।

कभी-कभी इंसान को अपनी ताकत और शक्ति पर अधिक भरोसा हो जाता है जिसकी वजह से भी टाल-मटोल करता है, आप शायद हज़रत काब बिन मालिक रज़ियल्लाहु अन्हु के तबूक युद्ध से पीछे रह जाने का किस्सा सुना होगा कि कैसे पूरी तैयारी होने के बावजूद आजकल आजकल करते रहे यहाँ तक कि तबोक युद्ध से पीछे रह गए जिसकी सजा उन्हें यह मिली कि अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) के इशारे पर सारे सहाबा ने पचास दिन तक उनका सामाजिक बहिष्कार किया यहाँ तक कि उनकी तौबा स्वीकार कर ली गई।

कभी इंसान अल्लाह की दया पर अत्यधिक भरोसा कर लेता है और यह सोचते हुए पाप पर पाप किए जाता है कि अल्लाह गफूरुर्रहीम है, क्षमा करने वाला और दयालु है हालांकि उसे समझना चाहिए कि अल्लाह करीम है तो कड़ी सजा देने वाला भी है। अवज्ञाकारियों के लिए उसने नरक की यातना भी तैयार किया है।

कभी इनसान  अलल-टप ज़िंदगी गुज़ार रहा होता है, अपने अंजाम के बारे में बिल्कुल चिंतित नहीं होता, कभी अपने जीवन का आत्मनिरीक्षण नहीं करता, यह नहीं सोचता कि पापों का हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर पड़ने वाला है, उसका अंजाम बुरा होने वाला है। इस तरह वह टाल-मटोल करता रहता है।

अब आइए जानते हैं कि टाल-मटोल का हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है। तो सबसे पहले हमारे जीवन पर टाल-मटोल का प्रभाव यह पड़ता है कि समय निकलने के बाद हसरत और लज्जा में डूब जाते हैं। बुराई में लगे रहे यहाँ तक कि मौत आ गई, अब सारा खट्ठा मीठा समझ में आ रहा है। लेकिन फिर काहे को पछतावा जब चिड़िया चुग गई खेत। इसी लिए अल्लाह ने ऐसे लोगों की हसरत को कुरान में नकल कर दिया, कहा:

حتى إذا جاء أحدهم الموت قال رب ارجعون لعلي أعمل صالحا فيما تركت –المؤمنون: 99-100

यहां तक कि जब उनमें से किसी को मौत आ जाएगी तो कहना शुरू करेंगे कि “हे मेरे प्रभु, मुझे इसी दुनिया में वापस भेज दें जिसे छोड़ आया हूँ, उम्मीद है कि अब मैं अच्छा काम करूंगा” समय निकलने के बाद आंखों पर चढ़े सारे पर्दे खुल जाएंगे, लेकिन फिर पछताता का कोई फायदा नहीं होगा, जवाब मिलेगा:

كلا إنها كلمة هو قائلها ومن ورائهم برزخ إلى يوم يبعثون۔  

कदापि नहीं, यह बस एक बात है जो वह बक रहा है अब इन (मरने वालों) के पीछे एक बरज़ख आड़े है क्यामत के दिन उठाए जाने के दिन तक।

 टाल-मटोल करने के कारण बहुत सारे अज्र और सवाब से इनसान वंचित रह जाता है, अब उस मनुष्य की क्या कीमत होगी जब वह अल्लाह से मिले तो सवाब से वंचित हो, टाल-मटोल की वजह से पाप जमा हो जाते हैं, और पश्चाताप करना मुश्किल हो जाता है, उसी तरह सांसारिक मामलों में काम ज़्यादा एकत्र हो जाता है फिर उसे करना मुश्किल हो जाता है। अब यह समझ में नहीं आता कि किसे करे और किसे ना करे।

 टाल-मटोल के कारणों को जानने और हमारे लौकिक और पारलौकिक जीवन पर इसके जो बुरे प्रभाव पड़ते हैं उन्हें समझने के बाद अब आइए जानते हैं कि टाल-मटोल का इलाज क्या है। कैसे हम टाल-मटोल की बीमारी से निजात पा सकते हैं? तो इस संबंध में सैद्धांतिक बात यह है कि हम अपने अंदर ठोस संकल्प उत्पन्न करें, इरादा दृठता लायें, यह सोचें कि आज अगर हम कड़ी मेहनत कर लेते हैं तो कल आराम करेंगे।

यह बेहतर है इस बात से कि यह सोचें कि आज आराम कर लेते हैं कल मेहनत करेंगे हालांकि संभव है कल कोई समस्या पैदा हो जाए और आप अपना काम न कर सकें। फिर काम को चरणबद्ध बांट लें और प्रतिदिन के हिसाब से जो संख्या तय की है उसे अंजाम देने की कोशिश करें, आसानी से काम अंजाम पा जाएगा। यह भी उचित है कि याद दिलाने के लिए अपने मोबाइल या आफिस में नोटिस लिखकर रख लें कि फ़लाँ काम को इतने दिन में और फ़लाँ फलाँ समय में पूर्ण कर लेना है।

 अपने आप को हमेशा याद दिलाएं कि टाल-मटोल करना, कोताही, कायरता और कमजोरी का दूसरा नाम है, –एक मुसलमान की विशेषता यह नहीं है कि वह कायरता अपनाए, कोताही और कमजोरी व्यक्त करे, इसी लिए तो उमर फ़ारूक़ रज़ियल्लाहु अन्हु का कथन है:

من القوة ألا تؤخر عمل اليوم إلى الغد

“शक्ति की यह दलील है कि आज का काम कल पर न डाल

तीसरे नंबर पर अल्लाह से हमेशा दुआ करते रहें कि ऐ अल्लाह तू हमें कोताही, सुस्ती और टाल-मटोल की बीमारी से बचा और जब इंसान अल्लाह से मांगता है तो उसे ज़रूर तौफ़ीक़ मिलती है। अल्लाह तआला ने फरमाया:

والذین جاھدوا فینا لنھدینھم سبلنا۔

“जो लोग हमारे रास्ते में कोशिश करते हैं हम उन्हें अपना रास्ता दिखाते हैं।

  घर के अभिभावक को चाहिए कि बच्चों को टाल-मटोल से बिल्कुल दूर रखें और काम को समय पर करने का आदी बनाएं, सुस्ती और आलस्य के कारण ही टाल-मटोल की आदत बनती है, जब हम उनके संकल्प में दृढता पैदा करेंगे और कार्य को अपने समय पर निपटाने की आदत डलवायेंगे तो वह अपने काम को समय पर पूरा करने के आदी हो जाएंगे।

सुस्त, आलसी और कामचोर की सोहबत से दूरी अपनाएं और हमेशा अल्लाह लोगों के जीवन को अपने लिए नमूना बनायें कि कैसे उन्होंने पाप होने पर तुरंत पश्चाताप किया, भलाई के कामों में आगे आगे रहे और टाल-मटोल से दूर रहे।

उमर बिन अब्दुल अज़ीज़ रहमतुल्लाह अलैहि के बारे में आता है कि जब वह अपने से पहले खलीफा सुलेमान बिन अब्दुल मलिक के दफन से फारिग़ हुए और लोगों ने आपके हाथ पर बैअत कर ली और खिलाफत संभालने के बाद पहला उपदेश दिया फिर जब उपदेश से फारिग़ हुए तो  घर की ओर लौटे ताकि कुछ देर आराम कर लें। अभी आराम करने के लिए बैठे ही थे कि उनका सत्रह वर्षीय लड़का जिसका नाम अब्दुल मलिक था उनके पास आया और कहने लगा: अमीरुल मुमिनीन अभी आप क्या करना चाहते हैं।?

आप ने फरमाया: “बेटा अभी आराम करना चाहता हूँ, बिल्कुल थक चुका हूँ।

बेटे ने कहा: “अमीरुलमुमिनीन आप ज़ुल्म से लिए गए माल को उनके हकदारों तक पहुंचाने से पहले आराम करना चाहते हैं?”

उन्होंने कहा: “बेटे तेरे चाचा सुलैमान की मौत की वजह से रात में जगा रह गया, जरा सो लेता हूँ, ज़ोहर की नमाज़ पढ़कर ज़ुल्म से लिए गये सामान हकदारों तक पहुंचा देंगे।

बेटे ने कहा:

ومن لك يا أمير المؤمنين بان تعيش إلى الظهر؟

अमीरुलमुमिनीन क्या आप गारंटी देते हैं कि ज़ोहर तक जीवित रह सकेंगे?”

 इस बात ने उमर के संकल्प को जगा दिया, उनकी नींद जाती रही और दृढ़ निश्चय और इरादे से हा: बेटा मेरे पास आओ, बेटा पास हुआ तो उसे अपने सीने से लगा लिया। उसके माथे को चूमा और कहा:

الحمد لله الذي أخرج من صلبي، من يعينني على ديني۔

अल्लाह का शुक्र है कि उसने मेरी पीठ से ऐसी औलाद निकाली जो मेरे धर्म के मामले में मेरी मदद करती है।

 फिर खड़े हुए, लोगों में घोषणा करवा दी कि जिस किसी का कोई ज़ुल्म का दावा हो उसे पैश करे। उसे उसका अधिकार दिया जाएगा।

     

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

Leave a Reply


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.